Guru Ji

 

मैंने कहा गुनहगार हूँ मैं।
सत्गुरु ने कहा बख्श दूँगा ।।
मैंने कहा परेशान हूँ मैं।
सत्गुरु ने कहा संभाल लूँगा।।
मैने कहा अकेला हूँ मैं ।
सत्गुरु ने कहा साथ हूँ मैं ।।
और मेने कहा आज बहुत उदास हूँ मै
सतगुरु ने कहा नजर उठा के देख कितने पास हूँ मै।।

सब दरवाजे बन्द हो जाएँ तो भी एक दरवाजा कभी बन्द नही होता, और वह है परमात्मा का दरवाजा । सब उम्मीद परमात्मा से रखिए दुनिया से नही ।

 

Recent Post

Today's Most Popular

All Time Most Popular