Gita Saar

 

जिससे कोई भी जीव उद्वेग को प्राप्त नहीं होता और जो स्वयं भी किसी जीव से उद्वेग को प्राप्त नहीं होता तथा जो हर्ष, अमर्ष (दूसरे की उन्नति को देखकर संताप होने का नाम 'अमर्ष' है), भय और उद्वेगादि से रहित है वह भक्त मुझको प्रिय है॥
He for whom no one is put into difficulty and who is not dirturbed by anxiety, who is steady in happiness and distress, is very dear to Me.

 

Recent Post

Today's Most Popular

All Time Most Popular