Gita Saar

 

जो मुझको अजन्मा अर्थात्‌ वास्तव में जन्मरहित, अनादि (अनादि उसको कहते हैं जो आदि रहित हो एवं सबका कारण हो) और लोकों का महान्‌ ईश्वर तत्त्व से जानता है, वह मनुष्यों में ज्ञानवान्‌ पुरुष संपूर्ण पापों से मुक्त हो जाता है॥

He who knows Me as the unborn, as the beginningless, as the Supreme Lord of all the worlds-he, undeluded among men, is freed from all sins.

 

Recent Post

Today's Most Popular

All Time Most Popular